ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
 मंडल में ५४ कोरोना वायरस के पॉजिटिव मिलने से लखनऊ तक खलबली
March 30, 2020 • Vikas Deep Tyagi • मेरठ
  •  कल आ सकते है सीएम व प्रमुख सचिव स्वास्थ्य एव शिक्षा
  • ३५३३ घरों का घर- घर जांच करने में जुटी ६०० टीमें

 यूरेशिया संवाददाता

मेरठ । पूरे विश्व में कहर मचा रहे कोविड -१९  थम नहीं पा रहा है। मेरठ मंडल में कोरोना वायरस से संक्रमित ५४ पॉजिटिव मरीज मिल चुके है जिसमें सबसे अधिक  नोएडा व मेरठ के है। जिसको लेकर  लखनऊ तक खलबली मच गयी है। वहीं एक परिवार के १३ लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर रविवार को पुलिस प्रशासन की मदद से स्वास्थ्य विभाग की ३५ सर्विलांस टीम व ६०० अन्य टीमों ने हुमायू नगर,सहाय बहलीम ,सोहराबगेट ,शास्त्रीनगर के १३ के इलाके मेंं ३५३५ घरो के चिन्हित कर एक सदस्य की जानकारी हासिल  की गयी। इस दौरान परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य की जाचपडताल की। वहीं स्वास्थ्य विभाग का संक्रमित व्यकित् के परिवार के २७ सदस्यों की रिपोर्ट का इंजतार कर रहा है। जो उसके सम्पर्क में रहे  थे। जिसके देर रात तक आने की संभावना जतायी जा रही । जिसमे अंाकडा १३ से बढने की जतायी जा रही है।

 बता दें २६ मार्च को खुर्जा निवासी इकराम उल हसन को बुखार,खांसी की शिकायत पर मेडिकल कालेज  में उसकी पत्नि व तीन सालों द्वारा भर्ती कराया गया था। जिसमें इकराम की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर स्वास्थ्य विभाग ने आइसोलेशन में रख्ेा पत्नि व सालों के भी सैंपल  लिया थे। जिसमें उसकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आने के बाद परिवार के ५० सदस्यों को स्वास्थ्य टीम ने उठा कर सुभारती मेडिकल कालेज व मेडिकल कालेज में भर्ती करना था। जिसमें ११ सदस्यों की रिपोर्ट में ८ की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। जिसके बाद जिलाधिकारी ने आगामी ४ अर्पैल तक  उन चारो स्थानों  के एक किलोमीटर के  दायर को सील कर दिया है। गलियों के बाद पुलिस प्रशासन का पहरा बैठ गया था।

एक -एक सदस्यों की टीमों ने ली जानकारी  

सोमवार सुबह जिला  सर्विलांस की ३५ व अलग से बनाई गयी  ६०० टीेमेंपुलिस प्रशासन अधिकारियों के साथ शास्त्रीनगर सैक्टर १३ समेत चारें स्थानों पर  पहुुची। पूरे क्षेत्र के ३  किली मीटर के दायरे मेंआने वाले मकानों के एक -एक परिवार के सदस्य का ब्यौरा एकत्र किया। यह भी जानकारी ली इकराम किन -किन लोगों से मिला था वह कहां कहापर गया। इस दौरनन टीमों के सदस्यों ने सोशनल डिस्टेंट का बनाये रखा। जांच के दौरान कई लोगों को खांसी व बुखार की शिकायत मिली। जिनकी जांच पडताल की गयी। जांच के दौरान लोग सहमे -सहमे से नजर आये। उनके चेहरे बता  रहे है। इकराम से मिल कर कितना खतरनाक खतरा मोल ले लिया है। कई तो महिलाए इकाराम को कौसते हुूए नगर आयी। उनका कहना था इकराम  मेरठ के लिये कंलक बन गया है जिसने पूरे शहर की आबो हवां को डरा दिया है।

खाुफिया विभाग शहर व देहात की मजिस्द व मदरसों को खंगलाने में जुटी

मवाना व सरधना में मजिस्दों में मिले विदेशी नागरिकों  के मिलने के बाद पुलिस प्रशासन पूरी तरह चौक्कना हो गया है। रविवार की आधी रात के बाद से सीओ एलआइयू के निर्देशन में शहर व देहात की मस्जिदों व मदरसों को खंगालते हुए विदेशी व बाहरी लोगो की जानकारी जुटाई गयी। सबका डाटा एकत्र किया जा रहा है। इस दौरान कई मस्जिदों में ताले लटके दिखाई दिये। खुफिया विभाग की टीमों ने आसपास के लोगों से किसी विदेशी नागरिक व बाहरी व्यक्ति की सूचना उन्हे देने के निर्देश दिये।
 मंगलवार केा  आ सकते है। सीएम व प्रमुख सचिव 
  मेरठ  मंडल में कोरोना वायरस के  ५४ पॉजिटिव मरीज मिलने के लखनऊ तक अधिकारी बैचेन हो गयी है। जिसमें नोएडा में ३२, मेरठ में १३, गाजियाबाद में ७ बागपत, बुलंदशहर मे एक एक पांजिटिव मरीज मिला। जबकि इससे पहले शामली व सहारनपुर में एक -एक पॉजिटिव मरीज पहले ही मिल चुके है। नोएडा , मेरठ व गाजियाबाद में संक्रमित मरीजों की संख्या पर नियंत्रण लगाने के लिये सीएम के आदेश पर प्रमुख सचिव रजनीश दुबे तो रविवार को नोएडा पहुच गये। सोमवार  को सीएम योगी आदित्यनाथ भी नोएडा पहुुंचे। आंशका जताई जा रही है। किसी वक्त  सीएम व प्रमुख सचिव मेरठ का रूख कर सकते है। इस कारण स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से लेकर प्रशासन के अधिकारियों में बेचैनी दिखायी दी। सब दुआ बना रहे है। आंकडा यही पर थाम रहे। ये तो गर्त में है। लेकिन अधिकारियों का ध्यान उन २७ लोगों की रिपोर्ट  का है जो सोमवार की रात तक आने की संभावना है।

कोरोना से बचाने के लिये गली मौहल्लो  मैं हुई  बैरिकैटिंग

कोरोना वायरस के १३ संक्रमित मिलने के बाद अब लोगों में दहशत बढ गयी है। कोरोना से स्वंय को बचाने के लिये शहर के हर मौहल्ला कोलोनी में बैरिकेटिंग से लैस कर लिया है। बाहरी लोोगों के प्रवेश पूरी तरन्ह प्रतिबंध लगा दिया हे। खाली उन्ही को प्रवेश दिया जा रहा है जो वहां के रहने वाले है।