ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
 मेरठ में पॉजिटिव मरीजो की संख्या १३  पहुुुंची
March 29, 2020 • Vikas Deep Tyagi • मेरठ
  • रविवार को ११ में से ८ की रिपोर्ट पॉजिटिव निकली,सभी एक परिवारके
  • आज  ६०० टीमे घर -घर जाकर करेगी जांच पडताल

यूरेशिया संवाददाता

मेरठ।मेरठ में कोरोना वायरस से संक्रमित पॉजिटिव मरीजों की संख्या में रविवार को जिसकी उम्मीद की जा रही थी। आखिर कार वही हुआ । शनिवार को पॉजिटिव आये इकरामुददूीन के ५० रिश्तेदारो के लिये गये सैंपल में से ११ की जांच करायी गयी थी जिसमें से ८ की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। पॉजिटिव मरीजों का आंकडा बढने के साथ ही प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग में बेचैनी दिखाई दे रही है। अभी इसकी संख्या बढने का अंदेशा जताया जा रहा है।  
 स्वास्थ्य विभाग ने इकराम उल हसन के शनिवार को मेडिकल व सुभारती मेडिकल कालेज में ५० रिश्तेदारों में ११ की जांच मेडिकल कालेज के माइक्रोबॉयोलाजी विभाग के लैब में जांच कराने के लिये भेजे थे। जिनकी रिपोट रविवार की रात क ो आयी तो स्थिति गंभीर हो गयी। ११ में से ८ की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। इस तरह जिले मेंं कुल कोरोना वायरस से पॉजिटिव मरीजों की संख्या १३ पहुंच गयी है। जो  जितांजक है अभी भर्ती अन्य मरीजों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आने की संभावना जतायी जा रही है।
इकरामू को झांसी में ही कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई देने आरभ हो गये थे
खर्जा के इकरामुददीन में अमरावती से आते  हुए झांसी में कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई देने आरंभ हो गये थे। उसने स्वास्थ्य विभाग को सुचित न कर अपने पास के चिकित्सक से उपचार करता रहा। तबियत बिगडने पर अपनी पत्नि व सालों के साथ मेडिकल  पहुंचा। तब तक खेल  बिगड चुका था। खुद तो कोरोना वायरस का शिकार हो गया साथ में अपनी पत्नि व सालों को कोरोना वायरस के संक्रमण दे दिये। अब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को ध्यान मेडिकल के आइसोशन वार्ड में भर्ती व सुभारती में भर्ती ५० लोगों पर केन्द्रित है। आंशका जताई जा रही है। उनमें से १५ की रिपोर्ट पॉजिटिव न आ जाए।  
जिला सर्विलांस अधिकारी डा विश्वास चौधरी ने बताया  इकरामुददीन की केस स्टडी की गयी है जिसके अनुसार वह १८ को अमरावती से  पत्नि संग मेरठ के लिये चला था। उसे अमरावती से ही बुखार की शिकायत थी। लेकिन उसने अपनी जांच कराने के बजाए वहीं के  एक चिकित्क से दवा ले ली थी। लेकिन झांसी पहुंचने पर उसका बुखार तेज  हो गया। उसे सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। मेरठ के सैक्टर १३ में अपनी सुसराल में पहुंचे पर उसने स्वास्थ्य विभाग को सूचना देने के बजाए पास के एक चिकित्सक से दवा ले ली थी। इसके उपरात वह एक विवाह समारोह मे शामिल होने चला गया था। इस दोरान करीब पांच दर्र्जन लोगों से मिला था। इसक बाद वह हुमायू नगर में अपनी रिश्तेदारी में चला गया था। लेकिन तबियत वहां भी ठीक नहीं थे। रिश्तेदारी के रूकने के दौरान दूसरी दिन तबियत बिगड गयी। तो फिर से  उसे उसके साले अपने पास ले आये। इस दौरान वह वहा पर भी कई लोगों के सम्पर्क आये। इस दौरान मस्जिद में भी नवाज अदा करने के लिये गया। वहां पर भी कई लोगों से मिला। २६ को ज्यादा तकलीफ होने पर उसे उनके साथ व पन्ति मेडिकल कालेज लेकर पहुंचे।
  बाल काटने वाले नाई की तलाश में स्वास्थ्य विभाग की टीम
दरअसल इकराम ने मेरठ आने के बाद विवाह समारोह में जाने से पहले जाकिर कालोनी निवासी दिलाशाद से बाल कटवाये थे। पूरी आशंका है दिलशाद भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो न गया हो । रविवार को  स्थास्थ्य विभाग व पुलिस विभाग की टीम जुटी रही।
 मेडिकल  कालेज की आइसीयू से  भागा इकराम का रिश्तेदार
 कोरोना वायरस की इकराम की पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसके रिश्तेदारों को मेडिकल कालेज मे भर्ती कराया था। जहां आइसोलेशन वार्ड में उनके स्क्रनिंग की जा रही थी । रविवार की दोपहर के समय शास्त्री नगर १३ निवासी असद किसी तरह वहां से फरार हो गया। इस बात का पता चल चला जब वह अपने बैड पर नहीं मिला। इस बात की जानकारी कर्मचारियों ने अधिकारियों को दी । तत्काल  इसकी सूचना पुलिस को फ्लैस की गयी। जिस पर नौचदी पुलिस ने उसे कुछ समय दबोच कर मेडिकल भेजा दिया। जहां की सुरक्षा पूरी तरह बढा दी गयी है।
  लोगों की जिंदगी से किया इकरामू ने खिलवाड
 सवाल यह उठता था इकरामुददीन ने अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही  के साथ अन्य लोगों की जिंदगी को पूरी तरह दंाव पर लगा लिया है। जब कोरोना वायरस पर टीवी ,अखबार व सोशन  मीडिया पर बडे पैमाने पर प्रचार व प्रसार किया जा रहा था । उसने अपना उपचार महाराष्टï्र के अमरावती में क्यों नहीं कराया। जिस ट्रेन में वहां से आया है गाजियाबाद तक उसने सैकडों को लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमित कर दिया। इतना ही नहीं खुद तो संक्रमित हुआ ही साथ अपनी पत्नि ,रिश्तेदारों व दोस्तों की जिंदगी को सांसत में डाल दिया है। मेडिकल कालेज व सुभारती मेडिकल कालेज क्वारेंटाइन वार्ड में भती ५० लोागों की जिदंगी खतरे में बनी हुई है। जब कि उनकी रिपोर्ट पोजिटिव नहीं आती है। दसअसल जिन ५० लोगों को भर्ती आइसोलेशन वार्ड व सुभारती क्वारेंटाइन वार्ड  में भर्ती कराया गया है। उसमे अधिकतर परिवार वाले है यानी की शादी शुदा है ऐसे यह आंशका जतायी जा रही है। उसके परिवार के सदस्यों के शरीर के  अंंदर कोरोना वायरस के  लक्षण हो सकते है। इसी को देखते हुए  जिन जिन स्थानों पर इकराुददीन गया था उस क्षेत्रों के एक किलोमीटर के दायरे को ३० मार्च तक सील  कर दिया गया है। वहां पर स्वास्थ्य विभाग की 40 टीमें एक -एक घर केा सेनिटाइज करने में जुटी है। अधिकारियों ने स्थिति को भांपते हुए इसे600 करने की तैयारी शुरू कर दी है। रविवार को भी टीमों ने इन सभी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की जांच पडताल की है किसी में बुखार व गले की शिकायत के लक्षण केा नहीं मिले है। 
  कालेनियों में बाहरी के प्रवेश पर लगाया प्रतिबंद
  कोरोना वायरस के पांच पॉजिटिव केस मिलने के बाद पूरे शहर दहशत का माहौल  बन गया है। कालोनिया व मौहल्लों में बाहरी लोगों के आने पर पूरी तरह प्रतिबंद लगा दिया है। इसके लिये वहां के लोगों ने इसकी कमान को संभाल लिया है।
 वहीं रविवार केा शहर में सर्तकता को और कडा कर दिया है। सुबह से बिन वजह सडकों पर घुमने वालों की घरपकड की गयी। जिलाधिकारी ने साफ शब्दों में कहा है। बिना किसी कारण के घरों से बाहर न निकले । अगर नहीं सुधरे तो कफ्र्यू लगाने के सिवा कोई चारा नहीं बचेगा।
सीएमओ ने कहा कि अगले चार दिन के भीतर सभी को ट्रैक कर लिया जाएगा। वहीं मरीज के खिलाफ एफआईआर कराने की तैयारी भी की जा रही है। स्वास्थय विभाग की टीम 3 किमी के दायरे में घर घर जाकर कोरोना के लक्षणों वाले लोगों की खोज करेगी। डीएम के निर्देशों के बादे हुमायू नगरए सोहराबगेटए शास्त्रीनगर के सैक्टर 13 व सराय बहलीम के एक किलोमीटर के दायरे को आगामी 30 मार्च तक सील कर दिया गया। अब वहा 30 मार्च तक न कोई आ सकेगा न ही कोई वहां जा सकेगा। पूरे क्षेत्र को सेनिटाइज कर सडकों पर छिडकाव कराया जा रहा है।
बता दें अमरावती से ट्रेन में सवार होकर 19 मार्च को पत्नी के संग मेरठ आये खुर्जा निवासी में शुक्रवार को कोरोना वायरस के लक्षण पाये गये थे। जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सतर्कता और बढा दी और मेडिकल कालेज के आइसोलेशन वार्ड में कोरोना पॉजिटिव मरीज के साथ उसकी पत्नी व तीन रिश्तेदारों को भी रखा गया। शनिवार को सभी की रिपोर्ट में कोरोना की पुष्टि ने मेरठ वासियों की मुसीबत बढा दी है। अब स्वास्थ्य विभाग की टीम इस व्यक्ति के रिश्तेदारों व जिन.जिन स्थानों पर वह गया था और किस.किस के सम्पर्क में वह आया। इसका विस्तृत ब्योरा खंगाला जा रहा है। अब तक मेरठ में एक भी व्यक्ति पॉजिटिव नहीं होने के चलते स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन काफ ी राहत में था। लेकिन अब 5 लोगों के कारण परेशानी बढ गयी है। विभाग के अधिकारियों ने नये सिरे से कार्य योजना बनाना शुरू कर दिया है। वहीं निगम के कर्मचारियों ने उक्त क्षेत्रों को सेनिटाइज करने के लिये सडकों पर व मकानों के आसपास छिडकाव किया गया। पूरे क्षेत्र में पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है लोगों से उन्हें अपने घरों में रहने की हिदायत दी गयी है। नियमों को तोडन्ने पर कार्रवाही करने की चेतावनी दी गयी है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा अपने कब्जे में लिये गये परिवार के 35 लोगों को सुभारती व 15 को मेडिकल में रखा गया है।