ALL मेरठ बागपत/ बड़ौत हापुड़ मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
अकेलापन व अवसाद दूर करता  है काव्य पाठ: राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य
June 29, 2020 • विकास दीप त्यागी • उत्तर प्रदेश

यूरेशिया संवाददाता

गाजियाबाद  ,केन्द्रीय आर्य युवक परिषद द्वारा तनाव व अकेलापन दूर करने के लिए ऑनलाइन काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। यह कोरोना काल में 50 वां वेबिनार था जिसे लोगों ने बहुत पसन्द किया।

परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि कोरोना काल में लोग अपने अपने घरों में रहकर अवसाद का शिकार हो रहे है, तनावग्रस्त और अकेलापन समस्या बनता जा रहा है ऐसे समय में परिषद लगातार लोगों की जिंदगी को बेहतर प्रसन्नचित बनाने के लिए ऑनलाइन कार्यक्रम करती आ रही है।

प्रांतीय महामंत्री प्रवीण आर्य ने "चलते चलो मुसाफिर पुरुषार्थ के सहारे,मंजिल तुम्हें पुकारे" से शुरुआत की और पुरुषार्थ की प्रेरणा प्रदान की।

काव्य गोष्टी में श्रीमती प्रवीन आर्या ने "किसी के काम जो आये उसे इंसान कहते है",वीरेन्द्र आहूजा ने "बुलबलो गर तुम्हारा चमन लुट गया तो आशियाना बसाने कहाँ जाओगे" सिमरण कौर ने "अफसाना लिख रही हूं" आदि रचनाएँ सुनाकर आनंदित व भावविभोर कर दिया। 

नेहरू नगर से योग शिक्षिका गीता गर्ग ने पर्यावरण पर काव्य रचना, "जब हम पेड़ लगाते हैं,तब हम क्या उगाते हैं,हमने ज़िन्दगी ओर ज़िंदादिली दोनों उगादी मानवता की रक्षा के लिए" व वीना वोहरा ने एक रचना,"कितना है करुणा मय तू ओ सृष्टि के विधाता,भरता है झोलियां तू जो शरण तेरी आता "सुनाकर भावविभोर कर दिया।

सौरभ गुप्ता ने संचालन करते हुए कहा कि काव्यपाठ व्यक्ति को तरोताजा कर देता है।इस उल्लास पूर्ण वातावरण में ओम सपरा, सुरेश आर्य,धर्मपाल आर्य,पुष्पा शास्त्री,प्रेम सचदेवा,यशोवीर आर्य,देवेन्द्र गुप्ता,विजय आर्य गर्ग,यज्ञ वीर चौहान आदि ने सुंदर काव्य पाठ किया।

मुख्य अतिथि समाजसेवी विजय कपूर ने व अध्यक्ष सरदार हरभजन सिंह देयोल ने अपनी काव्य प्रस्तुति व धन्यवाद ज्ञापन के साथ समापन किया।