ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
बागपत में लॉक डाउन की आड़ में हो रहा तालाब पर कब्जा
April 10, 2020 • Vikas Deep Tyagi • बागपत/ बड़ौत

यूरेशिया संवाददाता
बड़ौत। जहाँ देश भर में कोरोना महामारी से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश मे लॉक डाउन लगा हुआ है, वही बागपत के एक गांव में कुछ भू माफिया मिलकर तालाब को कब्जाने में लगे हुए है। जिसकी वजह से ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। 
दरअसल, जिला प्रशासन की हीलाहवाली के चलते बागपत, बड़ौत खेकड़ा तहसीलों के अधिकांश ग्रामों में मौजूद तालाबों पर लगातार कब्जे होने की शिकायत मिलती रही है। कुछ गांवों में तो तालाबों का अस्तित्व ही समाप्त कर दिया गया है। जिससे गांव के रास्तों पर पानी भरा रहने की शिकायत बनी रहती हैं। जनपद के करीब डेढ़ हजार तालाबों पर भू माफियाओं का कब्जा बना हुआ है। जो तालाब खाली बचे हुए है उन पर भी भूमाफियाओं की टेढ़ी नजर है। 
बड़ौत तहसील के तेड़ा गांव के भी अधिकांश  तालाब अतिक्रमण की भेंट चढ़ चुके है। गांव में दो तीन तालाब बचे थे जिनमें से एक तालाब पर शासन प्रशासन की ओर से जारी लॉक डाउन के चलते भूमाफियाओं ने कब्जा करना शुरू कर दिया है। भाजपा जिला महिला मोर्चा की मीडिया प्रभारी अनीता देवी, समाजसेवी प्रदीप सिंह पंवार आदि समेत कई ग्रामीणों ने बताया कि गांव में प्राचीन शिव मंदिर के पास वाले करीब एक हेक्टेयर में फैले तालाब के कुछ हिस्से पर गांव के ही एक दबंग किस्म के भूमाफिया ने बेरिकेडिंग कर तालाब को अपने कब्जे में कर लिया है। ग्रामीणों ने डीएम को शिकायती पत्र भेजकर तालाब को कब्जामुक्त कराने की मांग की है। उधर, प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि जांच कराकर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
---------------