ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
बलात्कार: औरतों के विरुद्ध होने वाला चौथे नंबर पर सबसे बड़ा अपराध- डॉ अनीता कौशल पुंडीर
December 1, 2019 • Vikas Deep Tyagi • विविध

 यूरेशिया संवाददाता

बलात्कार औरतों के विरुद्ध होने वाला चौथे नंबर पर सबसे बड़ा अपराध है नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो 2013 के अनुसार उनकी वार्षिक रिपोर्ट में बताया गया कि 24923 केस बलात्कार के रिपोर्ट हुए हैं और इनमें 98% केस यानी लगभग 24470 केस पीड़िता के जान पहचान वाले रहे जबकि बहुत सारे केसेस रिपोर्ट ही नहीं किए जाते जिसमें ज्यादातर मिचेल अंडरस्टैंडिंग से शारीरिक संबंध बनते हैं उन शर्तों पर झूठे शादी के वादों पर ऐसे बहुत सारे केस हैं और सबसे ज्यादा एनसीआरबी 2015 के अनुसार मध्यप्रदेश में रेप हुए उसके बाद राजस्थान में और फिर दिल्ली में लेकिन कल का जो केस है हैदराबाद में एक युवा डॉक्टर के साथ जिस प्रकार हैवानियत की गई वह सभ्य समाज को कलंकित ही कर रही है क्योंकि आज जिस तरह से महिलाओं के प्रति यौन हिंसा बढ़ रही है उससे महिलाओं की सुरक्षा और भयमुक्त वातावरण पर बड़ा प्रश्न चिन्ह लग गया है और यह स्वाभाविक भी है महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा आज एक गंभीर प्रश्न बनकर समाज के सामने खड़ा हो चुका है लगभग रोजाना ही महिलाओं छोटी बच्चियों के साथ हो रहे यौन अपराध हिंसा के समाचारों से अखबारों के पन्ने भरे रहते हैं और सभ्य समाज को इस तरह के कृत्यों से दिन प्रतिदिन लज्जित करने वाली राक्षसी प्रवृत्ति के लोग समाज में कैसे अपनी जगह बना पा रहे हैं यह एक यक्ष प्रश्न की तरह सभी के सामने खड़ा हुआ है अपराधिक प्रवृत्ति के लोगों से समाज को सुरक्षित रखने की बेहद आवश्यकता है इसके लिए सरकारों को नारों की जगह त्वरित कार्यवाही करने की नीति अपनानी होगी साथ ही ऐसा कृत्य को अंजाम देने वालों के लिए केवल फांसी का प्रावधान होना चाहिए जिससे विकृत मानसिकता वाले किसी भी दशा में बना सके और ही समाज को भी हर वक्त जागृत रहने की आवश्यकता है क्योंकि ध्यान रखना बहुत आवश्यक है कि हमारे आसपास इस तरह कोई विकृत मानसिकता वाले अपराधी तत्व सक्रिय तो नहीं प्रियंका रेड्डी के केस में मैं बहुत आहत हूं क्योंकि बहुत सारे लोग इसे सांप्रदायिक हिंसा का रूप देने के लिए कोशिश कर रहे हैं एक महिला के साथ उसकी अस्मत लूटी गई किसी की बेटी गई किस कोई अपना सुनहरा भविष्य बना सकता था उसका जीवन समाप्त कर दिया गया एक डॉक्टर कोई इस दुनिया में हमेशा के लिए समाप्त कर दिया गया यह वाकई दुखद है बलात्कारियों का ना कोई धर्म होता है ना कोई मजहब होता है इन्हें सजा अरबी कानून के हिसाब से मिलने चाहिए ताकि भविष्य में कोई ऐसा कुछ कभी ना कर सके फास्ट रेल का रुलाना चाहिए और आरोपियों को चारों आरोपियों को फांसी देने की मांग करनी चाहिए पैसों के नाम पर हेलमेट तो पहना देते हैं और फांसी के नाम पर डरा कर दिखाओ क्या पता रे बंद हो जाए
" हैदराबाद में शर्मनाक यह बार फिर से बहने डर गई पुरुषों पर धिक्कार
कितनी ऐसी बेटियां दे देती है जान ऐसा शिक्षित है समाज पापी को देते मान
बार-बार है हो रहा दुष्कर्म का वार कब तक सहेंगे नारियां इतना अत्याचार
घूम रहे हैं भेड़िए मानव काले रूप नारी का शोषण करें फिर भी है सब चुप
आज देश में हो रहा जगह-जगह दुष्कर्म जिसको अपना हम कहें कि से बताएं मर्म
तो जरूरत है ऐसे समाज की ऐसे जागृत लोगों की जो हमारे संस्कार और संस्कृति को ऊपर तक ले जाएं ना की उन्हें गिरा कर एक प्रश्न चिन्ह लगाएं जरूरत है आज शस्त्र उठाने की दंड देने की ना की सड़कों पर जाकर मोमबत्ती जलाकर अफसोस करने की अगर यह प्रवृत्ति दिनों दिन बढ़ती रही तो वह दिन दूर नहीं जब एक स्त्री काली मां बन जाएगी जिस तरह काली मां ने राक्षसों का संहार किया उसी तरह हर लड़की हर नारी अपने अंदर एक काली लेकर घूमने की