ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष की हत्या समेत तीन घटनाओं के आरोपियों पर लगेगी रासुका
August 18, 2020 • विकास दीप त्यागी • मेरठ
  • सुनील राठी की सम्पत्ति की भी होगी जांच

बागपत पुलिस लाइन में पत्रकारों से वार्ता करते पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह।

विश्व बंधु शास्त्री

बागपत। पुलिस लाइन में नवनियुक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने कहा कि भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष संजय खोखर, रालोद नेता एवं भट्ठा कारोबारी देशपाल खोखर व हिस्ट्रीशीटर परमवीर तुगाना की हत्या में शामिल अपराधियों पर 15 दिन के अंदर रासुका की कार्रवाई की जाएगी। कुख्यात सुनील राठी व अन्य बदमाशों की संपत्ति की भी जांच होगी। अवैध रूप से अर्जित की गई संपत्ति को कुर्क किया जाएगा। 
पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने मंगलवार को पत्रकार वार्ता में बताया कि जनपद में घटित तीन घटनाओं के सही अनावरण के लिए स्पेशल टीम का गठन किया जायेगा। इन घटनाओं में शामिल अपराधियों पर 15 दिन में रासुका की कार्रवाई की जाएगी। दस से ज्यादा दर्ज मुकदमें वाले अपराधियों की धारा 14ए सीआरपीसी के तहत संपत्ति की जांच कराई जाएगी। अवैध रूप से अर्जित की गई संपत्ति कुर्क होगी। इस श्रेणी में कुख्यात सुनील राठी भी है। गिरोह बनाकर अपराध करने वालों पर गैंगस्टर की कार्रवाई की जाएगी। टाॅप-10, गैंगस्टर, गुंडा एक्ट में निरुद्ध अपराधियों का सत्यापन कराकर उचित कार्रवाई की जाएगी। किसी के भी दबाव में पुलिस कार्य नहीं करेगी। प्रत्येक केस की निष्पक्ष जांच कराकर सही आरोपितों को सलाखों के पीछे पहुंचाने का कार्य किया जायेगा। अपराधियों को पुलिस अफसर के संरक्षण देने के लगे आरोप का जवाब देते हुए एसपी ने कहा कि इस तरह की उन्हें कोई जानकारी नहीं है। अगर कोई पुलिस अधिकारी या कर्मचारी अपराधी के सम्पर्क में मिलता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। साथ ही सांसद डा. सत्यपाल सिंह के जनपद के युवाओं पर अवैध हथियार रखने की बात कही गई है। इस संबंध में एसपी ने कहा कि अवैध हथियार की न तो तस्करी करने दी जाएगी और न ही जनपद में अवैध हथियार बनने दिये जाएंगे। अभियान चलाकर युवाओं तक अवैध हथियार पहुंचाने वालों की चेन तोड़ी जाएगी। शराब तस्करी करने वालों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई होगी। एसपी ने कहा कि पुलिस जनता से अच्छा आचरण करें। पीड़ितों की शिकायतों का तत्काल निवारण करें। यदि किसी पुलिसकर्मी की भ्रष्टाचार या दुर्व्यवहार की शिकायत मिलती है तो जांच कराकर सख्त कार्रवाई की जाएगी।