ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
ईद की खरीदारी से बचकर गरीबों की मदद में खर्च करें पैसा: शाहज़ेब रिज़वी
May 9, 2020 • Vikas Deep Tyagi • मेरठ

  • नेताओं पर पक्षपात करके राशन वितरित करने का लगाया आरोप

यूरेशिया संवाददाता

फलावदा-करीब दो सप्ताह बाद मुस्लिम समुदाय के लिए ईद का त्यौहार आने वाला है। ईद का त्यौहार मुस्लिम समुदाय के लिए बड़ा ही खुशी का त्यौहार माना जाता है। इस बार दुनिया में फैली कोरोना वायरस कोविड-19 महामारी के अंतर्गत भारत में देश के प्रधानमंत्री द्वारा लोकडाउन लागू किया गया है। मुस्लिम समुदाय के लोग ईद की खरीदारी ना करके गरीब लोगों की मदद करने में अपना पैसा खर्च करें। उक्त विचार समाजसेवी शाहजेब रिज़वी ने अपने पैतृक गांव रसूलपुर में अपने आवास पर मीडिया से रूबरू  होते हुए साझा किए। मीडिया के साथ साझा किए गए विचारों में उन्होंने कहा कि रमजान के इस पाक महीने में मुस्लिम समाज के लोगों को अपने पड़ोसियों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। जितना हो सके अपने पड़ोसियों की खाने पीने की व्यवस्था में हाथ बटाना चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ नेता इस महामारी के दौरान भी जाति धर्म के नाम पर राशन वितरित कर रहे है। जबकि नेताओं को चाहिए कि वह सर्व समाज के लोगों को एक निगाह से देखकर उनकी मदद करने का प्रयास करे। उन्होंने कहा कि जो लोग जनता के साथ पक्षपात कर रहे है। ऐसे लोगों को समय आने पर मुंह तोड़ जवाब दिया जाएगा। देश के प्रधानमंत्री व प्रदेश के मुख्यमंत्री फंड पर भी बोलते हुए कहा कि दोनों फंड सिर्फ धन एकत्र करने के लिए बनाए गए है। ऐसे फंड बनाकर भाजपा ने गरीबों के लिए अभी तक कोई राहत भरा काम नहीं किया है। उन्हें आशंका है कि प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री कोविड केयर फंड में दिया गये पैसे का कहीं दुरुपयोग ना हो जाए। शाहज़ेब रिज़वी का कहना है कि भाजपा ने अरबपतियों पर अरबों रुपए का कर्ज माफ करके यह साबित कर दिया है कि भाजपा सरकार सिर्फ और सिर्फ पूंजीपतियों की हितैषी है। ऐसी सरकार को गरीब जनता से कोई लेना देना नहीं है। भाजपा की केंद्र व राज्य सरकार सिर्फ और सिर्फ अपने मफाद के लिए कार्य कर रही है। बुनियादी स्तर पर केंद्र व राज्य सरकार विकास कार्यों को लेकर अभी तक बैकफुट पर ही नजर आई है। शाहज़ेब रिज़वी ने मुस्लिम समुदाय के लोगों से अपील की है कि इस बार ईद के त्यौहार पर खरीदारी ना करके गरीबों की मदद करने में अपना पैसा खर्च करें।