ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
एयरटेल ने कोविड-19 संकट के प्रभाव् से बचाने के लिए 80 मिलियन कम आय वाले मोबाइल ग्राहकों के लिए उपायों की घोषणा की
April 1, 2020 • Vikas Deep Tyagi • राष्ट्रीय
  • 17 अप्रैल तक अप्रतिबंधित इनकमिंग सेवाएँ और सभी निम्न आय वाले उपयोगकर्ताओं के लिए 10 रुपये का टॉक टाइम

यूरेशिया संवाददाता

लखनऊ: भारती एयरटेल, जो भारत की सबसे बडी एकीकृत दूरसंचार कंपनी है, ने आज कोविड-19 संकट से प्रभावित कम आय वर्ग के ग्राहकों की सहायता के लिए विशेष उपायों की घोषणा की।

एयरटेल ने 17 अप्रैल, 2020 तक 80 मिलयन से अधिक ग्राहकों के लिए प्री-पेड पैक की वैधता बढा दी है। इन सभी ग्राहकों को अपने प्लान की वैधता समाप्त होने के बाद भी अपने एयरटेल मोबाइल नंबरों पर इनकमिंग कॉल मिलते रहेंगे।

एयरटेल इन सभी 80 मिलियन ग्राहकों के प्री-पेड खातों में अतिरिक्त 10 रुपये का टॉकटाइम देने का भी फैसला किया है, ताकि वे कॉल करने या एसएमएस भेजने में सक्षम हो सकें और इस प्रकार अपने व प्रियजनों के साथ जुडे रह सकें ।

ये प्रोग्राम शुरू हो चुका है, और उपयोगकर्ताओं के लिए ये लाभ अगले 48 घंटों के भीतर उपलब्ध होंगे।

ये 80 मिलियन ग्राहक प्रभावी रूप से एयरटेल नेटवर्क के सभी कम आय वर्ग के घरों को कवर करते हैं। ये सुविधाएँ विशेष रूप से प्रवासी श्रमिकों और दैनिक वेतन भोगियों के लिए लाभदायक होंगी जो कोविड -19 का मुकाबला करने के लिए आरोपित देशव्यापी लॉकडाउन द्वारा प्रभावित हैं। एयरटेल नेटवर्क के अन्य सभी ग्राहक पहले से ही ऑनलाइन प्लेटफार्म का उपयोग करके रिचार्ज कर रहे हैं।

इन सुविधाओं के दवारा अब, सभी एयरटेल ग्राहकों को स्थानीय अधिकारियों दवारा दी जाने वाली महत्वपूर्ण

जानकारी तक अप्रतिबंधित पहुंच प्राप्त होगी, और वे अपने प्रियजनों से जुडे रहने में सक्षम होंगे।

एयरटेल की नेटवर्क टीमे चौबीस घंटे सातों दिन काम कर रही हैं ताकि भारत के डिजिटल बैकबोन का सही रूप  सञ्चालन किया जा सके |

भारती एयरटेल के चीफ मार्केटिंग अफसर शाश्वत शर्मा ने कहा, "कोविड -19 के खतरे से लडने के इस कठीन समय में  एयरटेल यह सुनिश्चित करता है कि हर व्यक्ति बिना किसी व्यवधान के अपने प्रियजनों से जुडा रहे। और इस उद्देश्य के लिए, हमारे देश के निम्न आय वाले दैनिक वेतन भोगियों की देखभाल करना बहुत महत्वपूर्ण है जिनका जीवन लॉक-डाउन के कारण बुरी तरह से प्रभावित हुआ है”।