ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
फ़्री मे मिला चावल  ब्लेक मे बिकता मिला.
June 10, 2020 • Vikas Deep Tyagi • मेरठ

यूरेशिया संवाददाता

 मेरठ ....परतापुर मे सस्ते गल्ले की दुकान से  फ़्री मे मिला चावल ब्लेक मे बिकता हुआ मिलने से ये तो साबित हो गया कि इस लोक डाउन मे परेशान सिर्फ़ गरीब हुआ है   लॉक डाउन के चलते सरकार ने गरीब और जरूरतमंदों की मदद के लिये  सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान पर दो रुपये किलो गेन्हु ओर तीन रुपये किलो चावल के साथ साथ फ़्री चावल  ओर चने का वितरण किया  लेकिन काफ़ी लोग इस मदद से वंचित रहे । बावजूद इसके इस लाभ का फ़ायदा कुछ सरकारी व्यक्ति ओर चार पहिया वाहन. स्वामी ने लिया सरकार ने सभी गरीब परिवार को पेट भर भोजन मिल सके, इसके लिए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम बनाया है। इसके तहत ग्रामीण क्षेत्रों में दो लाख रुपये और शहरी क्षेत्रों में तीन लाख रुपये सालाना आय वालो को इस का लाभ मिलेगा लेकिन आज भी काफ़ी गरीब, और विधवाओं का राशन कार्ड नहीं बन पाया है।जबकि जिनके घर मे ए सी कार है उनके राशन कार्ड बने हुये है ओर वो राशन की लाइन मे लगने की बजाय राशन डीलर पर किसी छुट भैया नेता का नाम लेकर बिना लाइन मे लगे राशन ले आते है अगर राशन डीलर उन्की बात न माने तो राशन डीलर ओर एरिया के पुर्ति निरिक्षक पर मिलकर कालाबाजारी करने का आरोप लगाते है.लेकिन जानकारी मे पता चला कि इ पाश मशीन मे बिना थम्ब लगाये  राशन मिलना नामुकिन है लोक डाउन के चलते कुछ राशन कार्ड धारकों ने फ़्री मिले चावल का स्टाक कर उसे अब बाजार मे बेचना शुरू कर दिया कुछ समय पुर्व आपूर्ति विभाग ने  काफ़ी संख्यामे ऐसे राशन कार्ड निरस्त भी किये है हैं। लेकिन आज भी कुछ ऐसे राशन कार्ड धारक है जिनकी आय तीन लाख सालाना से उपर है उनके घर मे चार पहिया वाहन ओर ऎ सी भी है ओर उनके राशन कार्ड बरकरार है कुछ राशन कार्ड सात ओर आठ युनिट के है  इस हिसाब से अगर देखा जाये तो महिने मे एक बार गेन्हु के साथ चावल ओर दुसरी बार फ़्री का चावल मिला तो पुरे माह मे करीब 49 किलो चावल कार्ड धारक को मिला क्या इतना चावल खर्च होना मुम्किन है फ़िल्हाल शासन ने आपूर्ति  विभाग के अफसरों को आदेश दिया है कि गलत सूचना देकर राशन कार्ड बनाने वालों की जांच करे और पकड़े जाने पर संबंधित व्यक्ति का राशन कार्ड निरस्त करने के साथ ही उठाए गए खाद्यान्न की कीमत वसूल करें और कानूनी कार्रवाई भी करें। जिला पूर्ति अधिकारी नीरज सिंह  ने बताया कि गलत जानकारी से बने राशन कार्ड निरस्त करने की कवायद शुर कर दी गई है।  गलत तरीके से बनाए गए सभी राशन कार्ड को निरस्त किया जाएगा। इसके अलावा नए आवेदनों की गंभीरता से जांच कराई जा रही है।