ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
गरीबों की सहायता के लिये उतरे फिल्म एंड टेलिविजन एक्टर प्रत्यूश उदय
May 28, 2020 • Vikas Deep Tyagi • मेरठ

यूरेशिया संवाददाता

मेरठ। वैश्विक महामारी के चलते  प्रदेश में चल रहे लॉक डाउन में सबसे ज्यादा राजमर्रा के खाने कमाने वालों पर पड रहा है। लॉक डाउन के चलते उनकी अर्थिक स्थिति पूरी तरह पटरी पर आ गयी है। ऐसे में उनकी मदद के लिये फिल्म स्टार समेत समाज के काफी लोग आगे आ रहे है। जिनसे जो बन पा रहा है। अपने.अपने स्तर से ऐसे गरीबों की सहायता कर रहे है।
 फिल्म रनिंग शादी एटाईम्स म्यूजिक चैनल के लिये इश्क बेपनाह गाने के लिये बतौर अभिनेता और निर्माता टीवी सीरियल  एक घर बनाऊगा स्टार प्लस एठूमरी एक पंरम्परा डीडी नेशनलए सीआईडी सोनीएगुमराम वी चैनल एएकदूसरे से करते है प्यार हम स्टार प्लस ए सावधान इंडिया स्टारभारत ए एड .ईडीईएलवी म्यूचल फंडए टाटा मोटर ए एक्वा सोफ्ट आरओए द मचान ए फ न  एड फूड ए वब शो हैप्पीली एवर आफ्टर जूम चैनल ए ऑल  अबाऊट सैक्शन 377 एआदि में  फिल्म इंडस्ट्री एंड टेलिविजन इंडस्ट्री में  अपने पैर जमा चुके अभिनेता एजाग्रति विहार निवासी प्रत्यूश उदय लॉक डाउन में गरीबों की सहायता के लिये आगे आये है। अपने परिवार व दोस्तों की मदद से वह ऐसे परिवारों की सहायता करने में जुटे हुए है। जिनकी लॉक डाउन में काम धंधा बंद होने के  कारण परिवारिक अर्थिक स्थिति खराब हो गयी है। प्रत्यूश उदय अपने भाई मिलिंद गौतमए मॉमा संजय वर्माए दीपक वर्माए छोटे भाई नितांशु वर्मा के साथ गरीबों को सामान बॅाटने के लिये विवि मार्ग स्थित सडक के किनारे लोहे को गलाकर सामान बेचने वाले परिवारों के बीच पहुुंचे तो एमानो परिवार के सामने कोई भगवान बन कर आ गया। इस दौरान वहां मौजूद 80 परिवारों को चीनीए चनाए आटाए सरसो को तेलएडेटोल  की साबुन व कपडों को झोपडी में रहने वालों को वितरित किया । आर्थिक सहायता मिलने पर वहां मौजूद कई लोगों की आंखे नम हो गयी। अभिनेता प्रत्यूश उदय ने झोपडियों मे रहने वालों को भरोसा दिलाया कि आगे भी मदद करते रहेंगे। लेकिन सोशल डिस्टेंस के साथ। इस मौके पर प्रत्यूश उदय ने बताया वह मुबंई में इस तरह की सेवा करते आ रहे है। कोरोना महामारी के चलते जब वह उस रास्ते से गुजरे तो उनसे उनके दर्द को देखा नहीं गया। जिस पर उन्होनेें अपने परिवार व दोस्तों के साथ मिलकर गरीबों की सहायता की। जिसमें उन्हे एक अलग अनूभूति मिल रही है।  ये उनका दूसरा पढाव है और अपने तीसरे पढाव की तैयारी शुरू कर दी है। उन्होने शहर वासियों से अपील की है। ऐसे लोगों की सहायता करने में संकोच न करे । जो लॉॅकडाउन में दाने. दाने के लिये लाचार हो रहे है।