ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
हर रविवार मच्छर पर वार’ के साथ चलेगा विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान
June 25, 2020 • विकास दीप त्यागी • मेरठ
  •  16 से 31 जुलाई तक चलाया जाएगा विशेष दस्तक अभियान
  •  अभियान में आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को लगाया जाएगा, नहीं होंगी संगोष्ठी व रैली

यूरेशिया संवाददाता 

मेरठ, 25 जून 2020 । राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत जनपद में एक से 31 जुलाई तक विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया जाएगा । इसका उद्देश्य लोगों में कोरोना के प्रति जागरूकता के साथ मलेरिया से बचाव व रोकथाम को लेकर जागरूकता पैदा करना है। इस काम में जिले की आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की सेवाएं ली जाएंगी। कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घरों के अंदर नहीं जाएंगी। लोगों को बाहर बुलाकर कोरोना व संचारी रोग नियंत्रण के बारे में जागरूक करेंगी।
जिला मलेरिया अधिकारी सत्य प्रकाश ने बताया एक से 31 जुलाई तक विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान चलाया जाएगा। इसी के तहत 16 से 31 जुलाई तक दस्तक अभियान चलाया जाएगा। जनपद के समस्त सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्तर पर आशा,  एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा घर-घर हर रविवार मच्छर पर वार स्लोगन का प्रचार-प्रसार कर लोगों को जागरूक किया जाएगा। इसके साथ ही मलेरिया की जांच के लिए चयनित गांवों में स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने बताया ग्रामीण इलाकों में बनी स्वच्छता समितियों के माध्यम से और प्रधानों के सहयोग से छिड़काव का कार्य किया जाएगा। उन्होंने बताया कोरोना के संक्रमण को देखते हुए इस बार आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता शहर व देहात में घरों के अंदर नहीं जाएगी। बाहर से आवाज लगाकर लोगों को कोरोना व संचारी रोग के प्रति जागरूक करेंगी। घरों के बाहर संचारी रोग नियंत्रण अभियान के पोस्टर लगाए जाएंगे, जिससे लोग संचारी रोग नियंत्रण के प्रति जागरूक हो सकें। इसके लिये 2088 आशा व 2022 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को लगाया गया है। उन्होंने बताया सोशल डिस्टेसिंग को देखते हुए इस बार कोई जागरूकता रैली व संगोष्ठी का आयोजन नहीं किया गया है। स्कूलों के नोडल शिक्षक ऑन लाइन बच्चों व लोगों को संचारी रोग के प्रति जागरूक करेंगे।
जिला मलेरिया अधिकारी ने बताया मलेरिया एक ऐसी बीमारी है जो परजीवी रोगाणु से होती है जिसे प्लाज्मोडियम कहते हैं। यह मादा एनोफिलीज मच्छर के काटने से फैलती है। यह रोगाणु व्यक्ति की लाल रक्त कोशिकाओं में फैल जाते हैं जिसके कारण मलेरिया होता है।

  • मलेरिया के लक्षण

जिला मलेरिया अधिकारी ने मलेरिया के लक्षणों की जानकारी देते हुए बताया इसमें व्यक्ति को ज्यादा देर तक बुखार आता है और यह बुखार प्रतिदिन तीन से चार घंटे तक रहता है। मलेरिया 10 से 12 दिन तक व्यक्ति को प्रभावित करता है। तेज बुखार के साथ ठंड लगना, उल्टी, दस्त तेज पसीना आना तथा शरीर का तापमान 100 डिग्री सेल्सियस से ऊपर बढ़ जाना, सिरदर्द, शरीर में जलन आदि इसके लक्षण हैं। इसकी नि:शुल्क जाँच और इलाज विशेषज्ञ डाक्टरों की देखरेख में जिले के सरकारी अस्पताल सहित सभी सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर उपलब्ध है।

  • बचाव एवं उपचार

जन समुदाय अपने घर के आस-पास साफ-सफाई रखें, जल भराव न होने दें क्योंकि बरसात के समय में गड्ढों में, बड़े बर्तनों में, टायरों में पानी जमा हो जाता है तथा ज्यादा दिन तक एक ही स्थान पर इकट्ठा रहने के कारण मच्छर पानी में पनपते हैं और धीरे-धीरे इनकी संख्या बढ़ जाती है। इसके अलावा सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें एवं मॉसकीटो क्रीम या लोशन लगाएं। बाहर का भोजन कम करें। पानी उबालकर पीएं, जिससे मलेरिया जैसी बीमारी को नियंत्रित किया जा सके।