ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
लॉक डाउन ही कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव का एकमात्र उपचार : डॉ वीरेंद्र सिंह
March 30, 2020 • Vikas Deep Tyagi • बागपत/ बड़ौत

यूरेशिया संवाददाता

बागपत। दिगम्बर जैन कॉलेज के प्राचार्य एवं राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम समन्वयक डॉ वीरेन्द्र सिंह का कहना है कि कोरोना वायरस कोविड-19 का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। उनका मानना है कि लॉक डाउन ही कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव का एकमात्र उपचार है और यह भारत समेत पूरी दुनिया में सफल भी हो रहा है। 
उनका कहना है कि इस वायरस का संक्रमण पिछले वर्ष दिसंबर 2019 में चीन के हुबेई प्रांत वुहान शहर से शुरू हुआ था।
भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए 14 अप्रैल 2020 तक  लॉक डाउन ही एक सुरक्षित प्रयास है। डब्लूएचओ यानि विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं। उन्होंने बताया कि इसका सबसे दुखद पहलु ये है कि इस वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु अथवा इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका भी अभी नहीं है। उन्होंने बताया कि शोधकर्ताओं और वैज्ञानिकों के अनुसार अभी इस वायरस पर टीका बनाने में अभी लगभग 3 से 4 महीने लग सकते है और यह टीका कितना कारगर साबित होगा इसकी भी पुष्टि होना बाकी है।यानी इस वायरस से बचने का एकमात्र रास्ता सावधानी बरतना ही बचाव है।

कोरोना वायरस के बीमारी के लक्षण

उन्होंने बताया कि इसके संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खरास जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं। यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है। इसके प्रमुख लक्षण सिरदर्द, नाक बहना, खांसी, गले में ख़राश, निमोनिया, फेफड़ों में सूजन, बुखार,अस्वस्थता का अहसास होना, छींक आना, अस्थमा का बिगड़ना, थकान महसूस करना है।

कोरोना वायरस से बचाव के उपाय
भारतीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस बीमारी से बचने के लिए जो दिशा निर्देश जारी किए हैं। उनमें

1.हाथों को साबुन से धोना चाहिए।

2.अल्‍कोहल आधारित सैनिटाइजर का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है।

3.खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढककर रखें।

4.जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें।
5.अंडे और मांस के सेवन से बचें।
6.जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बचें और समुद्री यानी सी-फ़ूड खाने से बचना चाहिए आदि शामिल है। 

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के उपाय

डॉ वीरेंद्र सिंह का कहना है कि फिलहाल कोरोना वायरस के संक्रमण का कोई पुख्ता इलाज नही हुआ है। ऐसे में दूसरों के संपर्क में ना आना और सोशल डिस्टेंसिंग ही इस वायरस से बचाव का एक मात्र रास्ता है।

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए क्या करें

उन्होंने बताया कि कोरोंना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए कुछ जरुरी बातो का ध्यान रखना चाहिए। जिनमें-

  • कोरोना वायरस के बीमारी से बचने के लिए अपनी साफ़ सफाई और स्वच्छता पर ध्यान दें।
  • एक निश्चित अन्तराल के बीच सफाई के लिए साबुन से लगातार हाथ धोते रहें।
  • छींकने और खांसने के दौरान अपना मुंह जरूर ढंकें।
  • जब आपके हाथ गंदे दिखें, तब अपने हाथों को साबुन और पानी से जरूर धोएं।
  • जब आपके हाथ स्पष्ट रूप से गंदे न हो, तब भी अपने हाथों को हैंड वॉश से जरूर धोएं।
  • प्रयोग के बाद टिशू को तुरंत किसी बंद डिब्बे में फेंक दें
  • अस्वस्थ या कमजोरी महसूस होने पर डॉक्टर से मिलें
  • कोरोना से बचने के लिए एक दूसरे से दूरी बनाए रखें।
  • अपनी आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें।
  • बुखार-खासी-सांस लेने में तकलीफ हो तो डॉक्टर से संपर्क करें।
  • भीड़ भाड़ वाले जगहों पर जाने से बचे।
  • .ज्यादा जरुरी हो तो ही यात्रा करे।
  • खुद से इलाज करने के बजाय डॉक्टर की सलाह पर अपना उपचार कराये आदि शामिल है।

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए क्या ना करें
प्राचार्य डॉ वीरेंद्र सिंह के अनुसार,

  • .अगर खांसी या बुखार है तो किसी के संपर्क में ना आएं।
  • सार्वजनिक स्थानों पर ना थूकें और ना ही गंदगी फैलाये।
  • जीवित पशुओं से संपर्क, कच्चे-अधपके मांस के सेवन से बचें
  • खेतों की यात्रा, जीवित पशुओं के बाजार या फिर जानवर का वध किए जाने वाले स्थान पर ना जाएं।
  • अनावश्यक यात्रा करने से बचे।
  • भीड़-भाड़ वाले सार्वजनिक जगहों पर जाने से बचे।