ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
लॉकडाउन में ऑनडिमांड:  हेयर ड्रेसर घरों में पंहुच कर रहे कटिंग व शेविंग
May 2, 2020 • Vikas Deep Tyagi • उत्तर प्रदेश

  • लॉकडाउन में घरों में जाकर कर रहे कटिंग व शेविंग
  • लोग बोले शक्लें भालू जैसी हो गई इसलिए हेयर ड्रेसर को बुलाकर करा रहे कटिंग

नानौता (सहारनपुर)  (अरविन्द सिसौदिया) आज के समय में पिज्जा, बर्गर, मोबाइल, जूते और कपडे से लेकर अन्य सामान तो ऑनडिमांड मंगाए व सुने होंगे। लेकिन कोरोनावायरस के चलते हुए लॉकडाउन में दौरान सबसे अधिक यदि किसी चीज की डिमांड चल रही है तो वह बार्बर (नाई) की है। शेविंग व सिर के बाल बढने से हर कोई परेशान हो गया है इसके लिए लोग बार्बर को ऑनडिमांड घर बुलाकर ही अपने बालों की कटिंग करा रहे है। हांलाकि बार्बर घर पंहुचने का थोडा चार्ज भी अधिक ले रहे है।
आजकल लॉकडाउन के दौरान लोग बाजार बंद होने के चलते सादा खाना या फिर घर पर ही नए-नए व्यंजन बनाकर खा रहे है। तो वहीं ऑनलाइन या ऑनडिमांड कोई भी चीज उन्हें नहीं मिल पा रही है। लेकिन इस समय में एक कारीगर की डिमांड सबसे अधिक देखने को मिल रही है। वह है बाल बनाने वाले बार्बर की। लोगों का कहना है कि लॉकडाउन खुलने का इंतजार देखते-देखते शेविंग से लेकर सिर के बाल इतने बडे हो गए है कि खुजली होने लगी है। शीशे में देखने पर शक्ल भालू जैसे लगने लगी है। जिसके चलते वह आसपास के हेयर सैलून चलाने वाले बार्बर को मोबाइल नंबर से घर पंहुचकर अपने कटिंग व शेविंग के लिए बुक कर रहे है। हांलाकि जिस परिवार में भी सैलून संचालक जा रहा है वह खुद मुंह पर मास्क लगाकर और साथ में सेनेटाइजर लेकर पंहुच रहा है। लेकिन इन सबके बाबजूद लोग घर पहंुचने पर बार्बर के हाथ सेनेटाइज के साथ कटिंग व शेविंग में प्रयोग होने वाले उपकरणों को सेनेटाइज करने के साथ अपने घर के कपडों को लगाकर कार्य करा रहे है। 
सोशल डिस्टेंस के चलते बंद है हेयर ड्रेसर की दुकानें -
सरकार ने दुकानें इसलिए भी बंद करा रखी है। क्योंकि हेयर ड्रेसर की दुकान पर सोशल डिस्टेंस का अभाव रहता है। दुकानों में बैठने की जगह कम होने व लोगों की संख्या अधिक होने के चलते सोशल डिस्टेंस संभव नहीं है। इसके अलावा सैलून संचालक अधिकतर बाल बनाने के लिए एक ही कपडे व हाथों को अधिकांशत बिना धोंए या सेनेटाइज किए बिना ही इस्तेमाल करते है। यदि ऐसे में कोई भी एक संक्रमित व्यक्ति पंहुचकर काफी लोगो को वायरस से ग्रसित कर सकता है।