ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
मुर्गी को भी हुई प्रसव पीड़ा, अंडे की जगह सीधे चूजा निकला बाहर
July 8, 2020 • विकास दीप त्यागी • विविध

‘मुर्गी पहले आई या अंडा?’ ये सवाल इंटरनेट पर बहुत फेमस है. हम सभी जानते हैं कि एक मुर्गी (Hen) पहले अंडे (EGG) देती है, फिर उसमे से चुजें (Chicks) बाहर निकलते हैं. लेकिन क्या आप ने कभी ऐसा देखा या सुना है कि एक मुर्गी ने किसी महिला की तरह पहले प्रसव पीड़ा का अनुभव किया और फिर अंडे देने की बजाए डायरेक्ट चूजे को जन्म दे दिया. यक़ीनन इस तरह की ख़बरें रोज रोज सुनने को नहीं मिलती है. दरअसल ऐसा हैरान कर देने वाला मामला उड़ीसा (Odisha) के नुआपाडा (Nuapada) जिले के इच्छापुर गांव (Ichhapur village) में देखने को मिला है.

मुर्गी ने बिना अंडे के दिया चूजा

दरअसल यह मामला बीते रविवार का है. यहां कोमना प्रखंड की साराबोंग पंचायत के इच्छापुर गांव में रहने वाली अंबिका माझी की मुर्गी ने उस समय लोगों को हैरान कर दिया जब उसने अंडे की बजाए सीधे चूजे को जन्म दे दिया. बता दें यह मुर्गी अपने नौं अंडो को सेने का काम कर रही थी. तभी उसे अचानक कुछ हुआ और वो थोड़ा दूर जाकर जमीन पर बैठ गई. गांव वालों ने देखा कि मुर्गी बहुत देर से एक ही स्थान पर बैठी है. पहले उन्हें लगा कि मुर्गी ने अंडा दिया है. लेकिन जब उन्होंने पास जाकर मुर्गी हटाई तो उसके नीचे एक चूजा था.

10 मिनट बाद हुई चूजे की मौत

गांव वालों ने आसपास अंडे के टुकड़े भी तलाश किए, लेकिन कुछ नहीं मिला. इससे उन्हें यकीन हो गया कि इस मुर्गी ने अंडे नहीं डायरेक्ट चूजा ही पैदा किया है. गांव वालों के अनुसार मुर्गी का चूजा दस मिनट जिंदा रहा फिर मर गया. अब यह पूरा मामला सोशल मीडिया पर भी बड़ा वायरल हो रहा है. लोग सोच में पड़े हैं कि आखिर ऐसा कैसे हो गया?

क्या बोले डॉक्टर?

नुआपाड़ा जिले के मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. त्रिलोचन ढल ने बाताया कि इस तरह का मामले उन्होंने अपने जीवन में पहले कभी नहीं देखा. उनका कहना है कि हो सकता है अंडा बाहर नहीं आया और मुर्गी के प्रजनन तंत्र में ही विकसित हो गया हो. इस तरह उसने अंडे की बजाए चूजे को जन्म दिया. आमतौर पर जब अंडा बाहर आता है तो मुर्गी उसे 21 दिनों तक सेती है. इसके बाद ही चूजे बाहर निकलते हैं.

पहले भी हुआ ऐसा

बता दें कि यह कोई पहली घटना नहीं है जब किसी मुर्गी ने डायरेक्ट चूजे को पैदा किया हो. इसके पहले 2018 में केरल के वायनाड और साल 2012 में श्रीलंका में भी ऐसे मामले सामने आ चुके हैं. श्रीलंका के पहाड़ी क्षेत्र में एक मुर्गी ने बिना अंडे के एक पूर्ण रूप से विकसित चूजे को जन्म दिया था. तब अंदरूनी चोटों के चलते मुर्गी की मौत हो गई थी. इस वाक्ये ने भी हर किसी को हैरत में डाल दिया था.

वैसे इस पूरे मामले पर आपकी क्या राय है हमें कमेंट में जरूर बताएं. आपका मुर्गी और अंडो के साथ कैसा अनुभव रहा इस पर भी रौशनी डालें. वैसे आपको क्या लगता है दुनियां में पहले मुर्गी आई या अंडा?