ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
फांसी के फंदे पर लटकी मिली रेप पीडि़ता: न्याय की आस में थाने के चक्कर लगा रही थी पीडि़ता
February 12, 2020 • Vikas Deep Tyagi • मेरठ

 

  • चार दिन पूर्व पंचायत में दबंगों ने पीडि़ता और उसके पिता पर बरसाए थे थप्पड़

 यूरेशिया संवाददाता

मवाना। दुष्कर्म के आरोपी को सजा दिलाने के लिए थाने के चक्कर लगा रही पीडि़ता का शव उसके ही कमरे में फंदे से झूलता मिला। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा। परिजनों ने आरोपी पक्ष पर हत्या का आरोप लगाते हुए तहरीर दी है। उधर, प्रथम दृष्ट्या आत्महत्या का मामला मानकर चल रही मवाना पुलिस की कार्यशैली पर भी प्रश्नचिन्ह लग गया है। क्योंकि पुलिस ने अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की थी। उल्टा पीडि़त पक्ष पर ही फैसले का दबाव बनाया जा रहा था। इसके अलावा चार दिन पूर्व गांव में हुई पंचायत में भी पीडि़ता व उसके पिता को दबंग आरोपी पक्ष ने अपमानित किया था और दोनों को थप्पड़ बरसाए थे। जिसके चलते भी पीडि़ता काफी क्षुब्ध थी। 

यह सनसनीखेज मामला थाना क्षेत्र के गांव कौल का है। दूसरे के खेतों में मजदूरी करने वाले एक व्यक्ति की 15 वर्षीय पुत्री को गांव के ही 60 वर्षीय आरोपी ने मौका मिलने पर दबोच लिया और उसके साथ दुष्कर्म किया। सरधना विधायक संगीत सोम के हस्तक्षेप के बाद इस मामले में मवाना पुलिस ने पिछले महीने 19 तारीख को आरोपी ब्रजपाल के खिलाफ दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज हुई थी। मवाना खुर्द पुलिस चौकी अंतर्गत आने वाले गांव कौल में हुई इस घटना के बाद से चौकी इंचार्ज की कार्यप्रणाली संदिग्ध नजर आ रही है। चौकी इंचार्ज ने पीडि़ता के बयान जज के समक्ष करा दिए थे, जिसमें पीडि़ता ने आरोपी के विरुद्ध बयान दिया था। आरोप है कि चौकी इंचार्ज ने आरोपी को पकडऩे के बजाय पीडि़ता व उसके पिता ही फैसले का दबाव बनाना शुरू कर दिया था। 

पंचायत में पिता-पुत्री पर बरसाए गए थप्पड़

चौकी इंचार्ज की शह पर चार दिन पूर्व गांव के एक पूर्व प्रधान के यहां दोनों पक्षों के फैसले के लिए पंचायत बुलाई गई थी। जब पीडि़त पक्ष ने किसी की बात नहीं मानी और कार्रवाई पर अड़े रहे तो आरोपी पक्ष अपना आपा खो बैठा। आरोपी पक्ष ने पीडि़ता व उसके पिता पर थप्पड़ बरसाकर अपनी दबंगई का सुबूत दे दिया। इस पंचायत के बाद तो जैसे पूरा परिवार दहशत में आ गया था। उसके पिता ने तो किसी तरह अपने आप को संभाल लिया, लेकिन पीडि़ता उसके बाद से सदमे में आ गई थी।

दुनिया से हुई अलविदा

बुधवार दोपहर जब उसके पिता दूसरे के खेतों में मजदूरी करने गए थे वह घर पर अकेली थी। जब उसके पिता घर लौटे तो कमरे में बेटी का शव फंदे से लटका देख उनके पैरों की धरती सिखक गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव नीचे उतारा और परिजनों से पूछताछ की। एसपी क्राइम रामअर्ज भी मौके पर पहुंचे और मामले की जांच की। पीडि़त परिजनों ने आरोपी पक्ष पर ही हत्या का आरोप लगाया है। 

बेटी बचाओ  ऩारा हुआ शर्मसार 
केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकारों का नारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा मवाना के कौल गांव में शर्मसार होता दिखाई दिया। मवाना पुलिस ने भी रेप जैसे संगीन मामले को संजीदगी से नहीं लिया और 15 साल की किशोरी को असमय ही दुनिया को अलविदा कहना पड़ा। मर्डर या सुसाइड की गुत्थी तो सुलझ जाएगी, लेकिन ऐसी घटनाएं कहीं न कहीं महिला सुरक्षा के प्रति दंभ भरने वाली मौजूदा सरकारों व इसके सिस्टम पर सवाल जरूर खड़ा करती है।