ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
पूरी सुऱक्षा के साथ अपने काम में जुटी हैं आंगनबाड़ी मास्क पहनकर सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रख रही हैं
April 18, 2020 • Vikas Deep Tyagi • उत्तर प्रदेश

यूरेशिया संवाददाता
नोएडा, 18 अप्रैल 2020। कोरोना वायरस को रोकने के मकसद से देश में 15 अप्रैल से लॉकडाउन-2 शुरू हो गया है। सभी को घर में रहने की हिदायत दी जा रही है। ऐसी विकट परिस्थितियों में भी आगंनबाड़ी कार्यकर्ता आशा और एएनएम के साथ अपने काम को अंजाम दे रहीं हैं। इतना ही नहीं इन मामलों की रोकथाम और प्रबंधन में फ्रंटलाइन वर्कर की महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। संक्रमण को रोकने के लिए समुदाय में महत्वपूर्ण संदेशों का प्रसार कर रही हैं और कोरोना संक्रमण के संदिग्ध मामलों की पहचान कर उन्हें उचित स्थान पर रेफेरल की कार्यवाही में भी जुटी हैं। जिला कार्यक्रम अधिकारी पूनम तिवारी का कहना है कि अपने काम के दौरान फील्ड में निकलते वक्त सभी एहतीयाती कदम उठाएं जा रहे हैं। सभी आंगनबाड़ी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रही हैं। सभी घर से ही मास्क पहन कर निकलतीं हैं, और सैनिटाइजर का भी इस्तेमाल कर रही हैं।
जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए शासन के निर्देशन पर जिले की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता विदेश, अन्य राज्य और शहर से लौटने वालों की सूची बनाने का काम कर रहीं हैं। इस दौरान वह उनका नाम, पिता का नाम, उम्र, मोबाइल नम्बर, कहां से आये, कितने दिन पहले आये और उनका पूरा पता दर्ज कर रहीं हैं। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता प्रत्येक दिन इसकी सूचना संबंधित सीएचसी व पीएचसी के चिकित्साधिकारी, संबंधित बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ) को उपलब्ध करा रहीं हैं। कोरोना वायरस को लेकर आंगनबाड़ी केन्द्र तो बंद है लेकिन कार्यकर्ता घर घर जाकर हैंडवॉश और साफ सफाई के लिए लोगों को जागरूक कर रहीं हैं।  
साथ ही बता रही है कि संक्रमण से होने वाली बीमारी में बुखार, सूखी खांसी, सांस लेने में कठिनाई, कुछ रोगियों में मांसपेशियों और जोड़ों का दर्द, नाक बंद, नाक बहना, गले में खराश होना या दस्त जैसे सामान्य लक्षण भी हो सकते हैं। कोविड-19 से संक्रमित व्यक्ति खांसता या छीकता है तो उसकी नाक या मुंह ने निकलने वाली बूंदों द्वारा यह रोग फैलता है। यह रोग मुख्यतः दो तरह से फैलता है। पहला संक्रमित रोगी से एक मीटर से कम दूरी से सम्पर्क में आने से, दूसरा संक्रमित सतह या कपड़ों को छूने के बाद मुंह, नाक व आंखों को छूने से। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सभी को बता रही हैं कि सावधानी बरतने से इस वायरस से बचा जा सकता है।
 जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया घर-घर जाकर सर्वे कर रही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। उन्हें मास्क, दस्ताने और सैनिटाइजर उपलब्ध कराया गया है। साथ ही उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखने को कहा गया है।

बांटे मास्क
स्वस्थ भारत प्रेरक तुषार कटारिया ने बताया उन्होंने फील्ड में उतरी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को 1000 मास्क  दिये हैं, ताकि वह स्वस्थ व सुरक्षित रह कर अपने काम को सही तरीके से अंजाम दे सकें। इसके अलावा कई गैर सरकारी संगठनों ने मास्क, सैनिटाइजर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को दिये हैं।