ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
राष्ट्रीय स्वास्थ्य  मिशन के स्वास्थ्य संविदाकर्मियों ने काली पट्टी बांधकर किया कार्य
June 6, 2020 • Vikas Deep Tyagi • मुजफ्फरनगर

  • लिखित में आश्वासन के बावजूद समान कार्य समान वेतन लागू न करने का जताया विरोध

यूरेशिया संवाददाता 

मुजफ्फरनगर । आज राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के संविदा कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के स्वास्थ्य कर्मचारियों का पूरा सहयोग रहा। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष संजीव लांबा, नर्सिंग एसोसिएशन की अध्यक्षा श्रीमती शकुंतला एवं डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन के समस्त पदाधिकारियों ने संविदा कर्मियों के इस आंदोलन को सफल बनाने के लिए काली पट्टी बांधकर अपने अपने कार्यों को अंजाम दिया। जिलाध्यक्ष डा. सचिन जैन ने बताया कि विगत कई वर्षों से अपनी मांगों को लेकर समस्त संविदा कर्मी सरकार से अनुरोध कर रहे हैं। पिछले 2 सालों से लिखित आश्वासन देने के बाद भी सरकार ने उनकी कोई मांग पूरी नहीं की है जिसके कारण समस्त संविदा कर्मियों में भारी रोष है। संगठन के महामंत्री मणीकांत त्यागी ने बताया कि आज इस कोविड-19 महामारी के संकट काल की घड़ी में स्वास्थ्य विभाग प्रथम पंक्ति में है और स्वास्थ्य विभाग में भी ज्यादातर संविदा कर्मी ही कार्यरत हैं। कोषाध्यक्ष डा. फैसल सिद्दीकी ने बताया की कई वर्षों से सरकार केवल संविदा पर ही नियुक्तियां कर रही है, जबकि नियमित पद सब खाली पड़े हुए हैं। इसीलिए हमारी सरकार से मांग है कि खाली पड़े हुए पदों के साथ एक संविदा कर्मियों को नियमित करने की प्रक्रिया तत्काल शुरू की जाए और जब तक यह प्रक्रिया शुरू नहीं होती है, तब तक समान कार्य समान वेतन का लाभ तात्कालिक रूप से सभी कर्मचारियों को सरकार देना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि दिन रात की ड्यूटी करने के बाद इतने का मानदेय में कर्मचारियों को गुजारा चलाना मुश्किल होता है और यदि किसी कर्मचारी के साथ कोई दुर्घटना या कुछ और परेशानी होती है तो कोई भी प्रावधान नहीं है कि उसकी मदद की जा सके समस्त कर्मचारी आपस में सहयोग राशि इकठ्ठा करके जरूरतमंद कर्मचारी को देते हैं। इसीलिए हम लोग सरकार से मांग करते हैं कि कर्मचारियों के लिए दुर्घटना बीमा राशि डीए और अन्य भत्ते शुरू किए जाएं। 
विरोध जाहिर करने वालों में डा. फैसल बिन मंसूर, डा0 नवनीत त्यागी, डा. सचिन जैन, महामंत्री मणीकान्त त्यागी, मीडिया प्रभारी रवि कुमार, अनुज सक्सेना डीसीपीएम, डा0 आरती नंदवार, अश्वनी कुमार, कमल कुमार, डा0 इफ्तिखार, दिव्यांक, अमान डा. हिमांशु त्यागी, अनिल कुमार डाटा असिसटेंट, अर्बन महामंत्री मोनिका, ओमपाल, हसरत अली, संजय कुमार आदि शामिल रहे।