ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
सरदार पटेल ने अखंड राष्ट्र का निर्माण किया :जिलाधिकारी
November 7, 2019 • Vikas Deep Tyagi • मुरादाबाद मंडल

 

जयकरण यूरेशिया संवाददाता

 अमरोहा,   जिलाधिकारी श्री उमेश मिश्र की अध्यक्षता में लौह पुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल जी की जयन्ती ''राष्ट्रीय एकता दिवस'' के रूप में मनाने हेतु कलेक्ट्रेट सभागार में विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी श्री हेमन्त कुमार ने पटेल जी के चित्र पर माल्यार्पण कर अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि सरदार पटेल न होते तो भारत के अखण्ड राष्ट्र का स्वरूप आज हमारे सामने न होता। देश की आजादी के समय छोटे-छोटे राजा, रजवाड़े, रियासतें, नवाब आदि अलग-अलग थे, जिन्हे एकता के सूत्र में पटेल ने पिरोया और अखण्ड भारत का निर्माण किया। पटेल ने आजादी के समय साफ कह दिया था कि सभी रियासतें भारत में विलय होगी और उनका एक संविधान होगा। सरदार पटेल की दृढ़ इच्छाशक्ति और कार्यक्षमता का ही फल है कि हम विशाल देश में निवास कर रहे हैं। यह अखण्ड भारत सरदार पटेल की देन है, इसकी एकता, अखण्डता को हम सब ने बनाये रखना है।
         

उन्होने कहा कि भारत में रहने वाले सभी लोग एक हैं और एकता की मिशाल कायम किये हुये हैं। उन्होने कहा कि अलग भाषा धर्म तथा जाति के बावजूद भी हम सबको एकता के सूत्र में पिरोने का श्रेय सरदार पटेल को जाता है। शपथ में राष्ट्र की एकता, अखण्डता और सुरक्षा को बनाये रखने के लिये स्वयं को समर्पित करने और देश की आंतरिक सुरक्षा में अपना योगदान सुनिश्चित करने का संकल्प लिया गया। शपथ में कहा गया कि सरदार बल्लभ भाई पटेल की दूरर्शिता एवं कार्याे द्वारा जो एकता का भाव बनाया गया है, उसी एकता को हम भी बनाये रखेंगे।
         अपर जिलाधिकारी श्री गुलाब चन्द्र जी ने कहा कि यदि सरदार पटेल न होते तो भारत के अखण्ड राष्ट्र का स्वरूप आज हमारे सामने न होता। देश की आजादी के समय छोटे-छोटे राजा, रजवाड़े, रियासतें, नवाब आदि अलग-अलग थे, जिन्हे एकता के सूत्र में पटेल ने पिरोया और अखण्ड भारत का निर्माण किया। पटेल ने आजादी के समय साफ कह दिया था कि सभी रियासतें भारत में विलय होगी और उनका एक संविधान होगा। सरदार पटेल की दृढ़ इच्छाशक्ति और कार्यक्षमता का ही फल है कि हम विशाल देश में निवास कर रहे हैं। यह अखण्ड भारत सरदार पटेल की देन है, इसकी एकता, अखण्डता को हम सब ने बनाये रखना है।
         उन्होने कहा कि भारत में रहने वाले सभी लोग एक हैं और एकता की मिशाल कायम किये हुये हैं। उन्होने कहा कि अलग भाषा धर्म तथा जाति के बावजूद भी हम सबको एकता के सूत्र में पिरोने का श्रेय सरदार पटेल को जाता है।  
         जिलाधिकारी ने कहा कि महापुरूषों के जन्मदिवस हम इसलिये मनाते हैं कि हम उनके सिद्धांतों, देश की एकता के लिये किये गये प्रयासों की जानकारी हमे हो सके और उनकी कुर्बानियों को याद करके हम भी अपने देश की आजादी व अखण्डता बनाये रखने में अपना भी योगदान दे सकें।
         उन्होने कहा कि सरदार पटेल देश के प्रथम गृह मंत्री थे और इन्होने 565 से अधिक रियासतों को मिलाकर मजबूत और अखण्ड भारत का निर्माण किया। उन्होने कहा कि सरदार पटेल की दृढ़ इच्छाशक्ति, नेतृत्व, कौशल और साहस की वजह से उन्हे लौह पुरूष और सरदार जैसे विशेषणों से नवाजा गया। उन्होने कहा कि पटेल जी को सच्ची श्रद्धांजलि वही होगी जब हम देश को मिल जुल कर मजबूत बनायेगें और तरक्की के रास्ते पर आगे बढ़ायेंगे।
         गोष्ठी में ज्वाईंट मजिस्टेªट श्री शशांक चैधरी, डिप्टी कलेक्टर श्री विजय शंकर, सूचना कार्यालय सहायक/सहायक लेखाकार श्री हरिराज सिंह, श्री राजेश गंगवार-सूचना कार्यालय, नाजिर सदर, सहित कलेक्टेªट परिसर स्थित कार्यालयों के अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित थे।