ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
शासन ने जारी की नई डिस्चार्ज पॉलिसी
July 24, 2020 • विकास दीप त्यागी • मेरठ
  • तीन दिन तक बुखार न आने पर सामान्य मरीजों को दसवें दिन बिना जांच मिलेगी छुट्टी
  • गंभीर श्रेणी के मरीजों को फालोअप सैंपल निगेटिव आने पर मिलेगी छुट्टी
  • अब होमआइसोलेशन भी जरूरी

यूरेशिया संवाददाता

मेरठ। होम आइसोलेशन वाले लक्षण विहीन कोरोना संक्रमितों को स्वास्थ्य विभाग की ओर से रोजाना फोन करके उनका हालचाल लिया जाएगा। यदि 10 दिनों की अवधि में किसी प्रकार का लक्षण प्रदर्शित होता है तो मरीज को उसकी आयु और को-मार्बिडिटीज की स्थिति के मुताबिक कोविड अस्पताल में भर्ती किया जाएगा। दूसरी ओर से 10 दिन की अवधि के दौरान कोई लक्षण प्रदर्शित नहीं होने पर उसे संक्रमण मुक्त मान लिया जाएगा। हालांकि प्रदेश सरकार की ओर से जारी की गई नई डिस्चार्ज पॉलिसी के मुताबिक 10 दिनों के बाद भी सात दिनों तक होम आइसोलेशन में रहना होगा।  मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डा. राजकुमार ने बताया इस संबंध में अपर मुख्य सचिव ( चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद की ओर से  शासनादेश जारी किए गये हैं।
इसके अलावा कोविड फैसिलिटी में भर्ती लक्षण विहीन रोगियों में यदि लक्षण प्रदर्शित नहीं हुए हैं तो प्रारंभिक जांच के 10वें दिन अथवा भर्ती होने के सातवें दिन (जो बाद में आए) बिना जांच के डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। ऐसे रोगियों को आठ दिन होम आइसोलेशन में रहना अनिवार्य होगा। हल्के लक्षणों वाले रोगियों के लिए नई डिस्चार्ज पॉलिसी के मुताबिक पहले सैंपल के आठवें दिन फॉलोअप सैंपल ट्रूनॉट मशीन पर जांच के लिए लिया जाएगा। फालोअप सैंपल के निगेटिव आने की स्थिति में ( लक्षण प्रदर्शित होने के उपरांत 10 दिवस) उस तिथि से सात दिन होम आइसोलेशन की सलाह के साथ डिस्चार्ज किया जाएगा।
उन्होंने बताया मध्यम तीव्रता वाले रोगियों को जिनमें लोअर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इंफेक्शन के लक्षण हों। मतलब, खांसी, बुखार आदि के साथ सांस लेने में परेशानी और निमोनिया का असर हो तो ऐसे रोगियों को एल-2, एल-3 में भर्ती किया जाएगा। ऐसे मरीज जो ऑक्सीजन देने के बाद भी शरीर में ऑक्सीजन का स्तर बनाए रखने में असमर्थ हों, उन्हें एल-2, एल-3 में भर्ती किया जाएगा और साथ ही ऐसे रोगियों को 12 दिन उपरांत फॉलोअप सैंपल लेने के बाद निगेटिव आने पर सात दिन होम आइसोलेशन की सलाह के साथ डिस्चार्ज किया जाएगा।
डिस्चार्ज करने से पूर्व इस बात पर ध्यान देना होगा कि किसी प्रकार के लक्षण तो प्रदर्शित नहीं हो रहे हैं। ‌लगातार तीन दिन से बुखार न आया हो और ऑक्सीजन सेचुरेशन 94 प्रतिशत से ऊपर हो। डिस्चार्ज करने से पहले गंभीर रोगियों का चेस्ट एक्स-रे भी किया जाएगा। इसके अलावा छुट्टी के समय मरीज के सभी कपड़े और अन्य सामान जैसे मोबाइल आदि भी विसंक्रमित किए जाएंगे। घर में रहने के दौरान रखी जाने वाली सावधानियों के साथ ही उन्हें यह भी बताया जाएगा कि ‌कोई लक्षण आने पर तुरंत सूचित करें। 14 दिन बाद यदि किसी रोगी को दुबारा लक्षण आते हैं तो उसे नया रोगी माना जाएगा।
           
 
“शासन की ओर से बदली  डिस्चार्ज पॉलिसी के तहत नई गाइडलाइन का पालन कराया जा रहा है। कोरोना के मरीज  को डिस्चार्ज होने के बाद होम आइसोलेशन में भेजा जाएगा। इसके लिये सभी अधिकारियों को दिशा निर्देश जारी किये गये हैं।”
                       डा. राजकुमार - मुख्य चिकित्सा अधिकारी ,मेरठ