ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
वर्तमान सामाजिक-आर्थिक चुनौतियाँ एवं अवसर (कोविड-19)' विषय पर राष्ट्रीय वेबिनार आयोजित
May 5, 2020 • Vikas Deep Tyagi • बागपत/ बड़ौत

विश्व बंधु शास्त्री
बागपत। शिक्षा क्षेत्र में कार्य करने वाली गुहार संस्था की ओर से वर्तमान सामाजिक- आर्थिक चुनौतियाँ एवं अवसर (कोविड-19)' विषय पर वेबिनार (इंटरनेट के माध्यम से संगोष्ठी) का आयोजन किया गया। गुहार एक एनजीओ है जो बागपत क्षेत्र में शिक्षा, कौशल विकास एवं आजीविका के क्षेत्र में कार्य करता है। वेबिनार में देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों से 6 वक्ताओं के साथ 160 से ज्यादा युवा शोधकर्ताओं, विद्वानों, अध्यापकों, प्रोफेसरों और छात्रों ने भाग लिया। 
संयोजक दीपक कुमार ने वेबिनार का उद्घाटन किया। उन्होंने वर्तमान महामारी से संबंधित विभिन्न चिंताओं पर जोर दिया और बताया कि इससे निपटने के लिए एक वैश्विक प्रयास की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि आज की वेबिनार में इस वैश्विक महामारी से उत्पन्न सामाजिक एवं आर्थिक प्रभावों पर विचार करना है, जो तत्काल एवं महामारी के उपरांत पूर्ण या आंशिक रूप से देखने को मिल सकते है। 
डॉ. राहुल चिमुरकर, सहायक प्रोफेसर, लक्ष्मीबाई कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय ने भी श्रोताओं को संबोधित किया। उन्होंने इस महामारी का वर्णन राजनीतिक नहीं, बल्कि रोगजनकों और मनुष्यों के बीच एक मौन और अप्रत्यक्ष युद्ध के रूप में किया।
अध्यक्षता सेंट स्टीफन कॉलेज, दिल्ली के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. पंकज कुमार मिश्रा ने की। उन्होंने कहा कि यह पहली बार है जब मनुष्य इस तरह की महामारी से निपट रहे हैं लेकिन इस बारे में जो अनोखी बात है, वह है हमारी अंतर-वैश्विक दुनिया में फैलने की इसकी खतरनाक दर। अर्थव्यवस्था पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि कोई भी बिना पैसे के जीवित नहीं रह सकता है। उन्होंने चेतावनी दी कि इससे एक और समस्या उत्पन्न हो सकती है जिसका समाज और राष्ट्र द्वारा सामना किया जाना है।
डॉ. अनानंद प्रताप सिंह, विभागाध्यक्ष, मनोविज्ञान और मानसिक स्वास्थ्य विभाग, गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय ने कोविड-19 के कारण व्यक्ति पर विभिन्न मनोवैज्ञानिक प्रभावों के बारे में चर्चा की। उन्होंने कहा कि अब समाज में 'अक्सर सामाजिककरण पैटर्न' से 'सामयिक सामाजिककरण पैटर्न' जरूरत-आधारित बातचीत बढ़ेगी। समाज के दूसरे व्यक्ति के प्रति व्यक्ति के मन में हमेशा एक खतरा बना रहेगा। इस कारण से समाज 'डिजिटल समाजीकरण' की ओर बढ़ेगा।
डॉ. विक्रम सिंह, प्रमुख, सामाजिक कार्य विभाग, गुरु घासीदास विश्वविद्यालय, छत्तीसगढ़ ने समाज के विभिन्न सामाजिक समूहों पर कोविड के प्रभाव पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन अवधि के दौरान घरेलू हिंसा के मामले बढ़ गए हैं। उन्होंने समाज में आय की असमान व्याकुलता के बारे में तर्क दिया और समाज में मनुष्यों के बीच विश्वास विकसित करने के लिए 'विश्वास-आधारित समूहों' की आवश्यकता पर बल दिया। डॉ. आमना मिर्ज़ा सहायक प्रोफेसर, राजनीति विज्ञान विभाग, श्यामा प्रसाद मुखर्जी कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय ने पारंपरिक सैन्य खतरे की तुलना में भूख, गरीबी आदि के कारण होने वाले खतरों के पूर्व प्रभाव पर शानदार ढंग से ध्यान केंद्रित किया।
डॉ. जगबीर सिंह कादियान सहायक प्रोफेसर, वाणिज्य विभाग, स्वामी श्रद्धानंद कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय ने कोविड-19 के आर्थिक पहलुओं पर चर्चा की। उन्होंने इस महामारी को देशों के लिए एक अवसर के रूप में माना। यह महामारी चीन और भारत जैसे उभरते देशों को ड्राइवर सीट लेने और दुनिया को अपने आर्थिक एजेंडे के साथ नेतृत्व करने के लिए प्रेरित कर सकती है।
डॉ. संदीप कौशिक, सहायक प्रोफेसर, पर्यावरण विज्ञान विभाग, इन्द्रा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय, अमरकंटक ने तर्क दिया कि लॉकडाउन के कारण प्रकृति ने खुद को ठीक कर लिया है। उन्होंने गंगा के स्वच्छ जल, सहारनपुर से दिखने वाली पर्वत श्रृंखला, प्रदूषण के स्तर में कमी आदि जैसे कई उदाहरणों के साथ इसकी पुष्टि की। उन्होंने इस तथ्य पर जोर दिया कि हमें बेहतर भविष्य के निर्माण के लिए पर्यावरण और विकास को संतुलित करने की आवश्यकता है। उन्होंने पर्यावरण की रक्षा हर तरह से, विशेषकर सामुदायिक भागीदारी के माध्यम से करने, मानव की आदतों में बदलाव का सुझाव दिया। 
इसके बाद एक प्रश्नोत्तर सत्र आयोजित किया गया, जहां प्रतिभागियों ने अनेक सवाल पूछे  और वक्ताओं ने उनमें से हर एक का जवाब दिया।
अंत में डॉ. रविंदर कुमार ने सभी वक्ताओं के प्रति आभार व्यक्त करते हुए वेबिनार को सभी के लिए वास्तव में समृद्ध अनुभव बनाया। वेबिनार को सफल बनाने में संयोजक दीपक कुमार, रोहित भारती, विकास मालिक, दिव्यांशु, लवलेश, विभोर आदि का सहयोग रहा।