ALL मेरठ सहारनपुर मण्डल मुजफ्फरनगर बागपत/ बड़ौत उत्तर प्रदेश मुरादाबाद मंडल राष्ट्रीय राजनीतिक विविध करियर
विश्व पर्यावरण दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित वेबीनार आॅनलाईन हरीतिमा
June 4, 2020 • Vikas Deep Tyagi • मेरठ

यूरेशिया संवाददाता
मवाना-भारत विकास परिषद हस्तिनापुर प्रान्त द्वारा विश्व पर्यावरण दिवस की पूर्व संध्या पर आयोजित आॅनलाईन वेबीनार  हरीतिमा का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता प्रान्तीय अध्यक्ष इंजी0 एस0एन0 बंसलने की तथा संचालन प्रान्तीय महासचिव वी0के0 सिंघल ने किया। 
कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप मेें राजेन्द्र सिंह जलपुरूष व मैकससे पुरूस्कार विजेता तथा मुख्य अतिथि सुनील खेड़ा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, रमेश जैन तथा अति विशिष्ठ अतिथि अनुराग दुबलिश राष्ट्रीय मंत्री व प्रमोद राम त्रिपाठी, बसंत गुप्ता रहे। विशिष्ट अतिथि विनीत संगल व नरेश चन्द्र गायेल रहे तथा वक्ता के रूप में गिरीश शुक्ला एवं अरूण खण्डेलवाल रहे। अरूण खण्डेलवाल ने अपने सम्बोधन में कहा कि पर्यापरण की समस्या पूरे विश्व की समस्या है। हम सभी ने भौतिकता की चाह में प्रकृति से खिलवाड़कर इस समस्या को पैदा किया है। राष्ट्रीय पर्यावरण नीति में आज के परिस्तिथियों के अनुसार परिवर्तन करना आवश्यक है। वक्ता गिरीश शुक्ला जी ने अपने घरों में किचिन गार्डन बनाने के लिए प्रेरित किया। उन्होने कहा कि हम अपनी बालकाॅनी व खुली छत पर सब्जियाँ व औषधिया पौंधे उगा सकते हैं। मुख्य वक्ता राजेन्द्र सिंह ने 21 वीं सदी में जलवायु परिवर्तन से आने वाली समस्या से चेताया। जलवायु परिवर्तन के कुप्रभाव के कारण सभी ) तुऐ अपने अस्तित्व को खोती नजर आ रही हैं। सर्दी, गर्मी तथा वर्षा बेमौसम होने के कारण कहीं आकाल तो कही बाढ़ आ रही है, हमें पेड़-पौधे लगाकर पर्यावरण को बचाना होगा। मुख्य अतिथि सुनील खेड़ा ने अपने उ(बोधन में कहा कि यदि विश्व ने प्रदूषण पर गम्भीरता से एक नीति बनाने के लिये काम नही किया तो आने वाले समय में धरती को बर्बाद होने से कोई नही बचा सकता है। अति विशिष्ट अतिथि अनुराग दुबलिश ने कहा कि हमें जल को बचाना है। प्लास्टिक पाॅलिथिन का बहिष्कार करना है व जगह के अनुसार पेड़-पौधे लगाने है। जैसे ध्वनि प्रदूषण को रोकने के लिए अशोक, नीम, बर्गद, पीपल आदि के पेड़ लगाने चाहिए व प्रदूषण नियन्त्रिक करने के लिए नीम, अमलतास, पीपल, जामुन व आम, अर्जुन व शीशम के पेड़ लगाने चाहिये। इस देश की 130 करोड़ जनता अपने जीवन में यदि एक एक पेड़ भी लगाये तो पर्यावरण की समस्या ही खत्म हो जायेगी। रमेश जैन, प्रमोद राम त्रिपाठी ,बसंत गुप्ता व विनीत संगल, नरेश चन्द्र गोयल आदि ने गोष्ठी को सम्बाधित किया।